ईमेल के माध्यम से सदस्यता लें

अपना ईमेल पता दर्ज करें:

तीन हजार निजी स्कूलों पर ताला लगने की नौबत


जोधपुर.राज्य के निजी स्कूलों में खेल मैदान की अनिवार्यता लागू होने से जोधपुर शहर सहित जिले भर में करीब तीन हजार स्कूलों पर ताला लगने की नौबत आ गई है। एक अनुमान के अनुसार शहर व जिले में 100 निजी स्कूलों में भी खेल का मैदान नहीं है। इन 3 हजार स्कूलों में करीब 5 लाख बच्चे पढ़ रहे हैं और 20 हजार शैक्षणिक कर्मचारी कार्यरत हैं। शहर में 1 हजार 496 निजी स्कूल हैं। पूरे संभाग की बात करें तो ऐसे 15 हजार से अधिक स्कूलों पर ताला लग सकता है। सरकार की ओर से इन स्कूलों को खेल मैदान के साथ आरटीई एक्ट व राजस्थान गैर सरकारी संस्था अधिनियम 1989 व 1993 के नियमों की पालना करने के लिए 31 मार्च तक का समय दिया था। ऐसा नहीं होने पर मान्यता रद्द करने का आदेश दिया है। दूसरी ओर स्कूल संचालकों का मानना है कि प्रदेश के 65 प्रतिशत बच्चे निजी स्कूलों में ही पढ़ते हैं। संभाग में इन स्कूलों के बंद होने से 90 हजार शैक्षणिक कर्मचारी बेरोजगार हो जाएंगे, जबकि करीब 30 लाख विद्यार्थियों को स्कूल छोड़नी पड़ेगी।