ईमेल के माध्यम से सदस्यता लें

अपना ईमेल पता दर्ज करें:

पीएमटी काउंसलिंग करने वाले सदस्यों को नोटिस


शिमला.  हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट ने अदालती आदेशों की अवहेलना करने पर पीएमटी की काउंसलिंग करने वाले सदस्यों के विरुद्ध आपराधिक अवमानना का मामला चलाने के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया है।हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश कुरियन जोसेफ और न्यायाधीश धर्मचंद चौधरी की खंडपीठ ने शिवाली चौधरी द्वारा दायर याचिका की सुनवाई के दौरान ये आदेश जारी किए हैं।याचिकाकर्ता के मुताबिक काउंसलिंग कमेटी ने प्रार्थियों को न्यायालय के आदेशों के बाद दिए गए दाखिले के आदेश को इस कारण रिव्यू किया क्योंकि हाईकोर्ट के समक्ष जो तथ्य पेश किए गए वो गलत थे।
इनसे मांगा जवाब-हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट ने काउंसलिंग कमेटी के सदस्यों निदेशक चिकित्सा शिक्षा जयश्री शर्मा, इंदिरा गांधी मेडिकल के प्राधानाचार्या एसएस कौशल, प्रो. अशोक भारद्वाज, डॉ. आरपी लुथरा प्रधानाचार्य कॉलेज शिमला नरेंद्र अवस्थी, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के परीक्षा नियंत्रक, अतिरिक्त निदेशक आईजीएमसी डीसी नेगी और सोलन के दंत चिकित्सा कॉलेज के प्रधानाचार्य भरथ भूषण को आपराधिक अवमानना नोटिस जारी कर दस दिनों के भीतर जवाब मांगा है।क्या है मामला-काउंसलिंग के दौरान मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने ऑल इंडिया कोटा की एमबीबीएस की सीटों की गलत जानकारी दी। बताया जा रहा है कि चिकित्सा शिक्षा विभाग की ओर से उसी जानकारी के आधार पर दाखिले तय हुए।http://www.bhaskar.com/article/HIM-OTH-pmt-counselling-notice-3949193-NOR.html